Impressive Health Benefits of Mustard Seed in Hindi : सरसों के प्रभावशाली सेहतकारी गुण

आज हम खेती किसान पर सरसों (राई) के पौधे की सम्पूर्ण जानकारी पाएंगे , कैसे Mustard Seed हमारी सेहत health में फायदेमंद होता है ? How mustard seed benefit to us know in hindi .

MUSTARD SEED : BENEFITS TO OUR HEALTH 

Mustard Seed जिसे हिन्दी भाषा में सरसों का बीज़ कहा जाता है जोकि पोषक तत्वों (Nutrition facts) से भरपूर होता है और हमारी सेहत (Health Benefits) के लिए गुणकारी।
Today here we know all things about mustard seed that how can it benefits to our heath in hindi along with the nutritional facts of mustard seed as it rich of calcim , iron ,etc. , Also

we know that how mustard seed help us to prevent from causing cancer and treat us from arthritis which comes under the section medicinal properties of mustard seed . 

यहाँ हम जानेंगे कैसे सरसों बीज़ कैंसर जैसे घातक रोगों की रोकथाम में गुणकारी है और यह हमारे स्वास्थ्य में कैसे लाभकारी है ।   

Important points to remember in health benefits of mustard seed 

  1. Prevent from Cancer : घातक कैंसर रोग से बचाता है सरसों का बीज़ 
  2. सोरयसिस ( त्वचा रोग ) के उपचार में लाभकारी : Helpful in Psoriasis(skin disease) treatment
  3. संपर्क से होने वाले त्वचा रोग की रोकथाम : Contact Dermatitis 
  4. Relief from Respiratory Disorders : श्वशन विकारो में राहतकारी 
  5. Excellent source of minerals and vitamins : खनिज और विटामिन का उत्कृष्ट स्त्रोत 
  6. Natural scrub , slows ageing and hair growth : प्राकर्तिक सफाई और बालों की लंबाई 
  7. Rich source of phyto-nutrients & anti-oxidants : फ़ाईटो-न्यूट्रीएंट्स और एंटि-ऑक्सीडेंट्स का समृद्ध स्त्रोत 
  8. Only helpful when mustard seed used properly in limit without exceeding : अति सर्वत्र वर्जयते मतलब सरसों बीज़ का उपयोग सावधानीपूर्वक करने में ही लाभ है   
  9. नीचे जानेंगे डीटेल में सरसों बीज़ कैसा होता है , उसकी उपलब्धता क्या है बाज़ार में , उसके औषधिए गुण क्या है ? 
  10. Below we know all above things in detail about mustard seed and what actually is it , how mustard seed looks , availability of it in markets , medicinal and nutritional properties of Mustard Seed .
 

Health Benefits of Mustard Seed,Nutritional facts of Mustard seed,medicinal properties of mustard seed
Image : Mustard Seeds by Khetikisaan

What is Mustard Seed ? क्या और कैसा होता है सरसों बीज़ ? 

सरसों का बीज़ काले भूरे या सफेद-पीले रंग के गोलाकार आकृति के होते हैं , आमतौर पर इनका व्यास 1 एक से 2 दो मिलीमीटर होता है । सरसों बीज़ विभिन प्रकार के पोधों से प्राप्त किया जाता है , ये कई क्षेत्रों में महत्वपूर्ण खाद्य पदार्थों के मसालों में अपना स्थान रखते हैं । मुख्यता सरसों का बीज़ तीन प्रकार के पोधों से प्राप्त किया जा सकता है :- 
Mustard seeds are round in shape , black-brown & white-yellow in color having one to two millimeter diameter . In many regions mustard seeds are used to flavour food . We get mustard seeds from three types of plants mentioned below :- 
  1. Black Mustard Seed (Brasssica nigra) : काला सरसों बीज़ :- ब्रासिका निगरा नामक यह एक वार्षिक पोधा है जो अपने काले या काले-भूरे बीजों के लिए उतरी अफ्रीका के उष्णकटिबंधीय क्षेत्र ,यूरोप के समशीतोष्ण क्षेत्र व एसिया के कुछ हिस्सों के खेतों में बोया जाता है जिसका आमतौर पर मसालों के रूप में उपयोग किया जाता है । 
  2. Brown Mustard Seed (Brassica juncea) : भूरा सरसों बीज़ :- ब्रासिका जूनसी भूरे रंग का सरसों बीज़ होता है जोकि चीनी सरसों , भारतीय सरसों ,पत्ति सरसों और सब्जी सरसों के नाम से जाना जाता है यह सीरहीन गोभी जैसा दिखता है जिसकी वजह से इसे सरसों गोभी कहा जाने लगा । 
  3. White Mustard Seed (Brassica hirta) : सफेद सरसों बीज़ :- ब्रासिका हिरटा जिसे ब्रासिका अलबा भी कहा जाता है । यह सरसों बीज़ चारा फसल या हरी खाद के रूप मे प्रयोग करने के लिए विकसित किया गया था , अब यह बीज़ पूरी दुनियाभर में व्यापक है । 

Medicinal Properties of Mustard Seed : सरसों बीज़ के औषधीय गुण 

  • सरसों गर्भाशय कैंसर से लड़ने में मदद कर सकता है (Mustard maybe helpful in fighting from uterine cancer) :-  मानव और प्रायोगिक विष विज्ञान में प्रकाशित शोध ने सुझाव दिया है कि सरसों के बीज़ में किमोप्रेवेंटेटीव क्षमता है और यह कारसीनोजेन्स के जहरीले प्रभाव के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करते हैं । Mustard seeds have founded having chemopreventative potential and provide protection against the toxic effect of carcinogens . 
  • सरसों बीज़ हृदय प्रणाली से जुड़े विकारों को खत्म करने में मदद कर सकते हैं (Mustard seeds could help in improvement of cardiovascular health) :- हृदय संबंधी दवा और चिकित्सा के एक अध्यन में प्रकाशित हुआ था की सरसों में ओमेगा-3-फेटी एसिड उपस्थित है जो की दिल के दौरे के खतरे को कम  करने में सहायक है । 
  • सरसों बीज़ लाल रक्त कोशिका गठन में सहायता कर सकते हैं (Mustard Seed can assist in red blood cell formation) :- नए रक्त कोशिका गठन के लिए हमारे शरीर को कॉपर और लोहा की अत्यधिक आवश्यकता होती है और यह माना गया है की सरसों बीज़ में लोहा भरपूर मात्रा में होता है जिसकी वजह से सरसों को अनेमिया रोग में मददकारी माना जा सकता है । 
  • सरसों बीज़ हड्डी की शक्ति को बढ़ाने में मदद कर सकता है (Mustard seed can help improve bone strength) :- हड्डियों को मजबूत बनाने में सेलेनियम नामक खनिज अहम भूमिका निभाता है जोकि एक शक्तिशाली एंटि-ऑक्सीडेंट माना जाता है और यह सेलेनिएम नामक खनिज सरसों में अत्यधिक मात्रा में पाया जाता है इसलिए हम मान सकते हैं की सरसों का सेवन हमारी हड्डियों को मजबूती प्रदान करता है । 
  •  रात को बेहतर नींद लेने में भी सरसों बीज़ मदद कर सकते हैं (Mustard Seeds can help us sleep better at night) :- ऐसा माना जाता है की हमारी निंद्रा क्रिया के घटक में मेगनिसियम नामक खनिज का अहम रोल होता है और सरसों के बीज़ में यह खनिज भरपूर मात्रा में होता है तो अपने खाने में सरसों को लेकर हम अनिन्द्रा की घटना को कम कर सकते हैं प्राक्रतिक तरीके से । 
  • सरसों के बीज़ सोरायशिस के खिलाफ लड़ने में प्रभावी सिद्ध होते हैं (Mustard seeds can fight against Psoriasis) :- सोरायसिस एक पुरानी सूजन ऑटोइम्यून विकार है , जर्नल ऑफ डरमेटोलोजी के अनुसंधान ने सुझाव दिया है की सरसों के बीज़ सोरायसिस से जुड़ी सूजन और घावों को ठीक करने में प्रभावी हैं । अध्ययन के अनुसार सरसों के बीज़ के साथ उपचार भी सुपर एंज़ाइमों की गतिविधियों को उत्तेजित करता है जैसे की सुपरओक्साइड डीमूटेज , ग्लूटाथीओन पेरोक्साइड और केटलस जो ऐसी बीमारियों में सुरक्षात्मक और उपचार की क्रिया को बढ़ावा देते हैं । 
  • संपर्क से होने वाले चर्मरोग के उपचार में सरसों बीज़ (Role of Mustard seed in contact dermatitis) :- सरसों के बीज़ संपर्क त्वचा रोग में चिकित्सीय उपचार प्रदान करते हैं । सम्पूर्ण अध्ययनों ने निष्कर्ष निकाला है की सरसों के बीज़ संपर्क त्वचा संबन्धित ऊतक जैसे कान में सूजन के उपचार में प्रभावी है । Mustard seeds provide therapeutic healing in contact dermatitis such as treatment of tissues and subdual swelling in the ear .
  • सरसों बीज़ से श्वसन संबंधी विकारों में राहत (How mustard seeds are helpful in respiratory disorders) :- सरसों के बीज ठंड और फ्लू की समस्याओं के इलाज में उनके सुखद प्रभाव के लिए जाने जाते हैं। यह एक प्रभावी decongestant है जो वायु मार्गों के माध्यम से श्लेष्म खाली करने में मदद करता है। इसके बीज गर्म भोजन के रूप में माना जाता है और बीमारी से कैंसर को शांत करने में इसके उपचार के परिणाम के लिए मूल्यवान माना जाता है।पूरे समय, विभिन्न दवाओं ने ससों के प्रभावित बीमारियों की एक बड़ी समस्या को ठीक करने के लिए सरसों के बीज की खपत ली है जैसे श्वसन अंगों में मौजूद जम्मू को खाली करने में उपचार में पीसने वाले सरसों के बीज का मिश्रण, इसे पीते हुए मुंह के रूप में इस्तेमाल करना सरसों के बीज एक सुखदायक गले में मदद करता है।इस पौधे की वार्मिंग गुण ऊतकों के अंदर काफी हद तक अवशोषित होती है और अतिरिक्त श्लेष्म भंडारण खाली कर देती है। सरसों के इन वार्मिंग गुणों में भी गर्म संवेदनाओं से संबंधित परामर्श सलाह की मांग की जाती है जिसे ट्रिगर किया जा सकता है, यह ऊतकों से अवगत कराया जाता है जो श्लेष्म में छुपा नहीं जाता है।   
  • दर्द और पीड़ा उपचार सरसों बीज़ द्वारा (Releif in Pain & Aches by Mustard Seeds) :- सरसों के बीज से बने प्लास्टर भी पीड़ा के इलाज में सहायता करते हैं। सरसों में गुणों को खिलाना पड़ता है और इसलिए जब प्लास्टर के रूप में लागू होता है, तो अंगों, संधिशोथ और अन्य मांसपेशियों की समस्याओं के पक्षाघात में दर्द राहत प्रभाव देता है। इसके अतिरिक्त, यहां ध्यान देने योग्य मुख्य बात यह है कि सरसों के प्लास्टर में गर्म संवेदना होती है और नग्न त्वचा पर फैल जाने पर दर्दनाक ब्लिस्टरिंग उत्पन्न हो सकती है। इसलिए इसे रोकने के लिए, त्वचा और प्लास्टर जहर प्रतिरोधी के बीच कुछ पतले आवरण का उपयोग किया जाना चाहिए , सरसों के बीज में निवारक गुण होते हैं जो मानव शरीर पर जहरीले लक्षणों को पीछे छोड़ देते हैं। अपने बीज के साथ एक संकोचन शरीर को मुख्य रूप से दवाओं के दुरुपयोग और अल्कोहल की संपूर्ण खपत द्वारा उत्पादित विषाक्त पदार्थ में खाली करने में सहायता करता है।
  •  रिंगवॉर्म से हुए विकार को सरसों बीज़ से दूर कैसे करें (How Ringworm infection is cured by Mustard Seeds) :- सरसों के बीज के एंटी-बैक्टीरियल गुणों को रिंगवार्म द्वारा उत्पादित लापरवाही के इलाज में उपयोगी माना जाता है। रिंगवर्म्स से जुड़े प्रभावों को ठीक करने में गर्म पानी के एड्स के साथ साफ एक स्वच्छ त्वचा पर सरसों के बीज से बने पेस्ट का त्वचा उपचार।
  • तंत्रिका तंत्र पर सरसों बीज़ का उपचार प्रभाव (Healing effetct of mustard seed on Nervous system) :- सरसों के पौधे में गर्म गुण होते हैं जो टूटे तंत्रिका से निकलने वाले कुछ मरीजों की मदद कर सकते हैं। यह तंत्रिका को सक्रिय करके उपचार प्रक्रिया को ट्रिगर करने में सहायता करता है और नसों की ओर एक ताज़ा परिणाम होता है।
  • सरसों बीज़ मधुमेह उपचार में सहायक (Mustard Seeds could help in Diabetes treatment) :- शोध साबित करता है कि सरसों के तेल की दवाएं प्रोटीन और अन्य ग्लूकोज के स्तर को कम करने में सहायता करती हैं। यह पेरोक्साइड गतिविधि को कम करने और स्वस्थ चयापचय को ट्रिगर करने में मदद करता है। सरसों का पत्ता मधुमेह के लिए एक महान उपचार है। शोध ने सरसों के पौधे के एंटी-ऑक्सीकरण गुण दिखाए हैं जो मधुमेह में ऑक्सीडेटिव दबाव के कारण ऑक्सीजन मुक्त अणुओं और गार्ड के लक्षणों को सामान्य करने में सहायता करते हैं।
  • जहर प्रतिरोधी (Mustard seeds are also Poison Repellent) :- सरसों के बीज में निवारक गुण होते हैं जो मानव शरीर पर जहरीले लक्षणों को पीछे छोड़ देते हैं। अपने बीज के साथ एक संकोचन शरीर को मुख्य रूप से दवाओं के दुरुपयोग और अल्कोहल की संपूर्ण खपत द्वारा उत्पादित विषाक्त पदार्थ में खाली करने में सहायता करता है। 
  • सरसों बीज़ में है कोलेस्ट्रॉल कम करने की क्षमता (Mustard seeds have cholestrol lowering ability) :- सरसों के पौधे की पत्तियां शानदार कोलेस्ट्रॉल को कम करने वाले गुण हैं। शोध ने सुझाव दिया है कि सरसों के हिरन जैसे सब्जियों में चयापचय ट्रैक में समेकित एसिड के गुण बढ़ रहे हैं जो मानव शरीर से इन एसिड की आसान निकासी के रूप में कार्य करता है। एसिड आमतौर पर कोलेस्ट्रॉल की सामग्री, इसलिए अंततः बाध्यकारी प्रक्रिया शरीर के कोलेस्ट्रॉल स्तर को कम करने में सहायता करती है।इसके अलावा, उस उबले हुए प्रकार के सरसों के हरे रंग में खपत में वह महान एसिड होता है। इसलिए, उन्हें समय-समय पर उबलाया जाता है, फिर यह खाने के लिए कुछ मसालों के साथ मिश्रण कर सकता है। ये सब्जियां एक पौष्टिक स्वाद है जो नसों में स्टॉपपेज के विकास को कम करने में मददगार है और बीमारियों से बचाती है। इन सब्जियों में पाए जाने वाले विटामिन तत्व रक्त विकार के जोखिम से बचते हैं।
  • रजोनिवृत्ति का इलाज करता है सरसों बीज़ (Menopause treatment by Mustard Seeds) :- सरसों के बीज रजोनिवृत्ति अवधि के दौरान महिलाओं के लिए लाभ दिखा सकते हैं। कैल्शियम के साथ मैग्नीशियम में पाया गया है कि यह हड्डी के स्वास्थ्य को बढ़ाता है और रजोनिवृत्ति से संबंधित हड्डी के नुकसान से बचाता है। यह हड्डियों और अन्य मैग्नीशियम अपर्याप्तता में मैग्नीशियम प्रतिशत को कम करने में सहायता करता है और पुरानी महिलाओं में ऑस्टियोपोरोसिस(हड्डी में छेद होने का एक रोग) का मौका कम करने में सहायता कर सकता है । 
  • कब्ज, ढेर, और फिशर का उपचार (Role of Mustard Seeds in treatment of Constipation and Piles) :- सरसों के बीज में वास्तव में एक अद्वितीय संपत्ति होती है। उनमें एक बहुत ही विशेष पदार्थ होता है जिसे श्लेष्म कहा जाता है। यह फाइबर के साथ पैक किया जाता है और प्रभावी रूप से कब्ज का इलाज कर सकता है और कुछ अन्य अप्रिय विकारों के लक्षणों से छुटकारा पा सकता है। इस पौधे के बीज लार के उत्पादन को उत्तेजित करते हैं, जो एक और महत्वपूर्ण कारण है जो उन्हें कुछ गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याओं से लड़ने की अनुमति देता है।
  • बाल विकास उत्तेजना  (Hair growth by Mustard Seeds) :- सरसों, शायद, सबसे शक्तिशाली हर्बल स्वास्थ्य विकास उत्तेजक है जो सदियों से उपयोग किया गया है। यह पोषक तत्वों और विशेष रूप से बीटा कैरोटीन में समृद्ध है। संयुक्त होने पर, सभी सरसों के बीज गुण बालों के विकास को बढ़ावा देने के लिए प्रतिक्रिया करते हैं। यह दोनों के लिए काम करता है, स्वस्थ ताले के देखो और मोटाई को बढ़ाता है और बालों के झड़ने से लड़ता है। यदि स्थिति गंभीर है, तो आपको सप्ताह में कम से कम एक बार सरसों के तेल का उपयोग करना चाहिए। नए बालों के विकास को उत्तेजित करने के अलावा, इससे आपको डैंड्रफ़ से छुटकारा पाने में मदद मिलेगी और समग्र रूप से आपके तनावों के स्वास्थ्य और स्वास्थ्य में सुधार होगा।

Nutritional value of Mustard Seeds which provides Benefit to our Health 

अब हम जानेंगे सरसों बीज़ के पोषक तत्वो के बारे में और कैसे वो उपलब्ध पोषक तत्व हमारी सेहत के लिए गुणकारी एवं लाभकारी होते हैं । 
नीचे दी गयी Nutritional Value प्रति 100 ग्राम के हिसाब से है :- 
  1. Energy (ऊर्जा ) : 508 kcal (किलोकेलोरी)
  2. Carbohydrates (कार्बोहाईड्रेट्स) : 28.09 g (ग्राम)
  3. Fat (वसा) : 36.24 g (ग्राम)
  4. Protein (प्रोटीन) : 26.08 g (ग्राम) 
  5. Vitamin A equiv. (विटामिन A पोषक) : 2 μg (माइक्रोग्राम)
  6. Thiamine थायमीन पोषक (vitamin B1) : 0.805 mg (मिलीग्राम)
  7. Riboflavin राइबोफ्लाविन पोषक (vitamin B2) : 0.261 mg (मिलीग्राम)
  8. Niacin नियासिन पोषक (vitamin B3) : 4.733 mg (मिलीग्राम)
  9. Vitamin B6 (विटामिन बी6 पोषक) : 0.397 mg (मिलीग्राम)
  10. Folate फोलेट पोषक (vitamin B9) : 162 μg (माइक्रोग्राम)
  11. Vitamin B12 (विटामिन बी12 पोषक) : 0 μg (माइक्रोग्राम)
  12. Vitamin C (विटामिन सी पोषक) : 7.1 mg (मिलीग्राम)
  13. Vitamin E (विटामिन ई पोषक) : 5.07 mg (मिलीग्राम)
  14. Vitamin K (विटामिन के पोषक) : 5.4 μg (माइक्रोग्राम) 
  15. Mineral Calcium (खनिज केलसीयम) : 266 mg (मिलीग्राम)
  16. Mineral Iron (खनिज लोहा ) : 9.21 mg (मिलीग्राम)
  17. Mineral Magnesium (खनिज मेग्नीसियम) : 370 mg (मिलीग्राम)
  18. Mineral Phosphorus (खनिज फोस्फोरस) : 841 mg (मिलीग्राम)
  19. Mineral Potassium : (खनिज पोटेसीयम) 828 mg (मिलीग्राम)
  20. Mineral Sodium (खनिज सोडियम) : 13 mg (मिलीग्राम)
  21. Mineral Zinc (खनिज ज़िंक) : 6.08 mg (मिलीग्राम)
  22. Water (H2O) पानी : 5.27 g (ग्राम)
 सरसों के बीज वास्तव में फाइटोन्यूट्रिएंट्स, खनिज, विटामिन और एंटी-ऑक्सीडेंट्स में बहुत समृद्ध होते हैं।
मुख्य तेल के बीज होने के नाते, सरसों वास्तव में कैलोरी में बहुत अधिक हैं, 100 ग्राम बीज 508 कैलोरी प्रदान करते हैं, फिर भी, बीज गुणवत्ता प्रोटीन, आवश्यक तेल, विटामिन, खनिज, और आहार फाइबर से बने होते हैं।
आवश्यक तेलों के साथ-साथ पौधे स्टेरोल में बीज अधिक होते हैं। कुछ महत्वपूर्ण स्टेरोल में ब्रैसिकास्टरोल, कैंपेस्टेरॉल, साइटोस्टरोल, एवेनस्ट्रॉल और स्टिगमास्टोल शामिल हैं। बीज में ग्लूकोसिनोलेट और फैटी एसिड में से कुछ sinigrin, myrosin, erucic, eicosanoic, oleic, और palmitic acids हैं।
सरसों के बीज आवश्यक बी-कॉम्प्लेक्स विटामिन जैसे फोलेट्स, नियासिन, थियामिन, रिबोफ्लाविन, पाइरोडॉक्सिन (विटामिन बी -6), पेंटोथेनिक एसिड का उत्कृष्ट स्रोत हैं। ये विटामिन इस अर्थ में आवश्यक हैं कि शरीर को उन्हें बाहरी स्रोतों से भरने की आवश्यकता होती है। विटामिन के ये बी-जटिल समूह एंजाइम संश्लेषण, तंत्रिका तंत्र समारोह और शरीर चयापचय को विनियमित करने में मदद करते हैं।
सरसों के 100 ग्राम 4.733 मिलीग्राम नियासिन (विटामिन बी -3) प्रदान करते हैं। नियासिन निकोटीनामाइड कोएनजाइम का एक हिस्सा है जो रक्त कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड के स्तर को कम करने में मदद करता है।

Availability of Mustard Seeds in Market : सरसों बीज़ की उपलब्धता बाज़ार में 

सरसों का बीज़ बाज़ारों में आसानी से मिल जाता जाता है जिसे सरसों व राई के नाम से बेचा जाता है , यह बीज़ मंडी में और साथ ही पंसारी की दुकान पर आसानी से मिल जाता है फिलहाल मंडियो में इसका भाव 40-45 रुपए प्रति किलो है । 

Time of planting Mustard Seeds in Rajasthan Haryana & Pumjab of India : भारत के राजस्थान हरियाणा और पंजाब में सरसों बीज़ की बुवाई का समय 

सरसों की बिजाइ यहाँ अक्तूबर और नवंबर माह में होती है , मुख्यता पायोनीर वराइटि सर्वोतम मानी जाती है इन इलाकों में , Pioneer 45S42 , Pioneer 45S46 । 
सरसों को पक कर तयार होने के लिए 2-3 पानी की आवश्यकता होती है , सरसों की फसल में पहले पानी के साथ सल्फर डालने से बीज़ की गुणवत्ता बढ़ जाती है । 
सरसों का बीज़ राजस्थान में 700 ग्राम प्रति बीघा के हिसाब से बोया जाता है । सरसों की फसल मार्च में पक्क कर पूरणत तैयार हो जाती है । 
Note : All above discussed things are written on the basis of different sources , and we are not responsible for any misuse. Also we don’t recommend use of mustard seed in disease instead of medicines. 

आपका कमेंट हमारा हौंसला ? Do Comment here